Saturday, 29 July 2017

पंचतंत्र की कहानी - शेर और चूहा



एक घने जंगल में कड़क सिंह नाम का एक खूंखार शेर रहता था। उस शेर से जंगल के सारे जानवर थरथर कांपते थे। एक दिन वह गहरी नींद में सोया हुआ था। वह जहां सोया था वहां चूहे का बिल था। शेर के जोरदार खर्राटों से घबराया हुआ चूहा अपने बिल से बाहर आता है। पहले तो वह कड़क सिंह को देखकर थोडा डरता है लेकिन फिर उसे एक शरारत सूझती है। वह कड़क सिंह के साथ थोड़ी मस्ती करने लगता है। कड़क सिंह के नींद में होने पर वह उसका फायदा उठाता है। फिर वह उसके ऊपर कूदने लगता है। एक बार तो कड़क सिंह उसे अपनी पूँछ से हटा देता है लेकिन चूहा इतना शरारती होता है कि वह अपनी हरकतों से बाज नहीं आता।

थोड़ी ही देर में कड़क सिंह की आँख खुल जाती है। अपने पास चूहे को उछलकूद करते हुए देख कड़क सिंह को बहुत गुस्सा आता है। वह चूहे को अपने पंजे में पकड़ लेता है और उससे दहाड़ते हुए कहता है, "बदमाश चूहे - तेरी हिम्मत कैसे हुई मेरे पास उछलकूद करने की? अब मैं तुझे नहीं छोडूंगा।"
  
कड़क सिंह की बात सुनकर चूहा बहुत घबरा जाता है। डर के मारे उसके पसीने छुटने लगते हैं। वह कांपती हुई आवाज में कड़क सिंह को बोलता है, "आपसे तो जंगल का हर जानवर डरता है। आप इस जंगल के राजा हैं। मुझे पागल समझ कर ही माफ कर दीजिये। मुझ जैसे जानवर को मारकर आपकी कौनसा शान बढेगी? बल्कि सब यही कहेंगे कि कड़क सिंह ने एक छोटे से चूहे को उसकी गलती के लिए मार डाला।"

चूहे की बात को सुनकर कड़क सिंह थोड़ा सोचने लगता है और गर्दन हिला देता है। चूहा आगे कहता है, "मेरी बात सुनिए महाराज, अगर आप मुझे छोड़ देंगे तो जीवन में कभी न कभी मैं आपकी सहायता जरूर करूंगा।"

कड़क सिंह चूहे की ये बात सुनकर ठहाके मार कर हंसता है और फिर चूहे को घूरते हुए बोलता है, "तुम्हारे जैसा पिद्दी चूहा मेरी क्या मदद करेगा? तुम्हारी बात सुनकर मुझे इतनी हंसी आ रही है, जितनी मुझे जीवन में कभी नहीं आई।"

एक गहरी सांस लेने के बाद कड़क सिंह बोलता है, "ख़ैर मैं तुम्हे छोड़ता हूँ। आज तुमने मुझे बहुत हंसाया है। इसका इनाम तुम्हारी ज़िन्दगी है।" यह कह्कर वह चूहे को छोड़ देता है। चूहा कड़क सिंह के पंजो से छुटकर बड़ी तेजी से भाग जाता है।

कई दिनों के बाद उस जंगल में कुछ शिकारी शेर को पकड़ने के लिए आते हैं। वह शेर को पकड़ने के लिए एक जाल बिछाते हैं। कड़क सिंह उसी रास्ते से गुजर रहा होता है जिस रास्ते पर शिकारियों ने जाल बिछाया होता है। वह जाल में फंस जाता है और फिर जोर जोर से मदद के लिए चिल्लाता है। 

चूहा कड़क सिंह की पुकार सुन कर दौड़ा-दौड़ा उसके पास जाता है और कहता है, "महाराज - आप परेशान ना हों। मैं अभी अपने नुकीले और तेज दांतों से इस जाल को कुतर देता हूँ।" यह बोलकर चूहा अपने दांतों से कड़क सिंह का जाल कुतरने लगता है। कुछ ही देर में कड़क सिंह जाल से मुक्त हो जाता है। चूहा कड़क सिंह से बोलता है, "उस दिन मैंने आपसे कहा था ना महाराज कि वक़्त पड़ने पर मैं आपकी सहायता करूंगा?! पर आप मुझ पर हंस रहे थे। कभी-कभी छोटा जीव भी वक़्त पड़ने पर बहुत काम आ सकता है।"

कड़क सिंह यह सुनकर जवाब देता है, "वाह दोस्त! आज से तुम मेरे ख़ास मित्र हो। तुमने मुझे आज बहुत बड़ी सीख दी है।"

Click=>>>>>Hindi Cartoon for more.......

Thursday, 20 July 2017

प्लेंटीमोन: अटैक ऑन विजडम वैली


प्रिंसेस और प्लेंटीमोन, दोनों साथ-साथ विसडम वैली की तरफ जाते हैं। वहां पर आलिशान स्वागत की तैयारी देखकर प्लेंटीमोन अचंभित रह जाता है। तभी मेजेस्टी के आने का संगीत बजता है और मेजेस्टी आते हैं। वो प्रिंसेस को देखकर बड़े ही खुश होते हैं और ख़ुशी के मारे बच्चों जैसा व्यवहार करते हैं। यह देखकर प्रिंसेस और प्लेंटीमोन दोनो शर्मा जाते हैं। फिर प्रिंस आकर कहते हैं की उन्हें प्रिंसेस के लौटने की बेहद ख़ुशी है। प्रिंसेस यह कहकर जवाब देती है की वह अपना ख्याल खुद रख सकती है।

ब्रूस मेजेस्टी को बताता है की वह सब कोस्टल सिटी में हुई घटनाओं की जानकारी देने आये हैं। मेजेस्टी ब्रूस की बात को नज़रंदाज़ कर यह कहते हैं की आज सिर्फ पार्टी होगी। मेजेस्टी नाचते हैं जिन्हें देखकर चींटिया और प्लेंटीमोन सब चौंक जाते हैं।

प्रिंस वहां से दूर जा कर गुप्त स्थान पर चांडाल चौकड़ी के साथ बात करता है। चंडाल चौकड़ी सफाई देती हैं की वह सैल वैली पहंचने से पहले बाहुत थक गये थे इसलिए प्रिंसेस को रास्ते से नहीं हटा पाए। प्रिंस उन्हें बहुत फटकार लगाता है तो डिंगडिंग कहता है की अगली बार वह कोई गलती नहीं करेंगे।

प्लेंटीमोन और प्रिंसेस अपने-अपने साथी के साथ महल में घूमते हैं। तभी प्लेंटीमोन को लगता है की कोई उसका पीछा कर रहा है। प्रिंसेस कहती है वहम है।  प्लेंटीमोन पूरा महल घूमते हुए मेजेस्टी के पास पहुंच जाता है जहाँ पर मेजस्टी किसी फोटो के आगे खड़े होकर कुछ सोच रहे हैं। मेजेस्टी प्लेंटीमोन से कहते हैं की वह अपनी बेटी को जानते हैं। वह बिलकुल अपनी माँ पर गई है। प्लेंटीमोन एक तस्वीर को देख कर मेजेस्टी से पूछता है की क्या वह प्रिंसेस की मम्मी हैं? मेजेस्टी कहते हैं की हाँ - जब प्रिंसेस बहुत छोटी थी तब वह उन्हें और प्रिंसेस को छोड़ कर चली गई थी। लेकिन वह संतुष्ट हैं क्योंकि वह जानते हैं की प्रिंसेस एक महान रानी बनेगी।

मेजेस्टी प्लेंटीमोन से यह भी कहते हैं की प्रिंसेस सिटी ऑफ़ सेल का भविष्य है। जैसे 10 साल पहले जंग हुई थी, अगर वैसी जंग फिर से हुई तो प्रिंसेस सब सम्भाल सकती है। प्लेंटीमोन 10 साल पहले की जंग और अपने पापा के 10 साल पहले गायब होने के बारे में सोचता है। वह मेजेस्टी से पूछता है की 10 साल पहले क्या हुआ था?!

मेजेस्टी कहानी बताते हैं की इविल शैतान सिंह सेल इंटेलीजेन्स वैली को जीतने आया था। अनगिनत कॉन्ट्रैक्ट ने सेल इंटेलीजेंस वैली को बचाने के लिए वुड स्पिरिट के साथ मिलकर शैतान सिंह से टक्कर ली। शैतान सिंह और उनकी सेना बहुत स्ट्रोंग थी लेकिन फिर भी अपनी जान पर खेलकर एविस ऑफ़ चार्ली को कुछ हिस्सों में बाँट दिया गया। अलग-अलग तरह के 8 सील थे जिनमें से वह आखरी सील है जो उस समय कहां है - कोई नहीं जानता।

 प्लेंटीमोन कहता है वह एविस से बाहर है और किसी भी इविल की पहुंच से भी बाहर है। मेजेस्टी बताते हैं की एविस को फेलने से रोकने के लिए सभी 8 की 8 सील्स को इकठ्ठा किया जाना चाहिए। प्लेंटीमोन चौंकते हुए कहता है की सभी 8 की सील्स? तो मेजेस्टी कहते हैं की हाँ - सभी सील्स वुड स्पिरिट बेबी की हेल्प और शक्ति की मदद से इकठ्ठा करो वरना सेल सिटी का कोई भविष्य नहीं है।

तभी एक वुड स्पिरिट महल के अन्दर प्रवेश करती है और मेजेस्टी के पास खबर आती है की महल में उथल पुथल मच चुकी है। वो शख्स मेजेस्टी से कहता है की स्पिरिट ऑफ़ मेजेस्टी और जोम्बी हॉल बुरी तरह से टूट गए हैं। दूसरी तरफ प्रिंसेस और प्लेंटीमोन भी परेशान होते हैं। सभी एक साथ बाहर निकल रहे होते हैं की तभी उनके सामने से जमीन फट जाती है, और एक वुड स्पिरिट आकर प्रिंसेस और प्लेंटीमोन के सामने खड़ी हो जाती है। मेजेस्टी चिल्लाते हैं - जोम्बी! तुम इस महल की गार्डियन वुड स्पिरिट हो। तुम महल में तूफ़ान कैसे मचा सकती हो?! क्या तुम भूल गए हो कि महल की जिम्मेदारी हम दोनों पर है?

वुड स्पिरिट कहता है की उसकी जिम्मेदारी सिर्फ सिटी ऑफ़ सेल को जितना है। वह सैनिको पर हमला करके उन्हें जानवर बना देता है। ब्रूस मेजेस्टी से कहता है ज़ोंबी अपनी इविल शक्तियों से किसी को भी जानवर बना सकता है। मेजेस्टी जोम्बी को टोकते हैं की वह बहुत बड़ी गलती कर रहा है। लेकिन ज़ोंबी मेजेस्टी  नज़रअंदाज़ करके प्रिंसेस पर हमला करता है। प्रिंसेस को बचाने के लिए मेजेस्टी बीच में आ जाते हैं और वह ज़ोंबी की इविल ताकतों के चलते खरगोश बन जाते हैं।

प्रिंसेस परेशान होकर रोने लगती है कि जोम्बी उन पर अगला हमला करने वाला होता है। तभी गोलू उसे रोकता है और कहता है की अगर ज़ोंबी ताकतवर है तो वह भी कुछ कम नहीं। जोम्बी गोलू को भी अपने वश में करके चला जाता है। फिर महल के एक नयी रक्षक वुड स्पिरिट आकर प्लेंटीमोन चींटिया इत्यादि को अपने साथ ले जाती है। ब्रूस मेजेस्टी को लेकर चला जाता है और कहता है की उन्हें गोलू को ठीक करना है।

तभी वहां पर गोलू आ जाता है। प्लेंटीमोन और प्रिंसेस अपनी-अपनी शक्तियों से उस पर हमला करते हैं लेकिन नाकामयाब हो जाते हैं। तभी प्लेंटीमोन और डाऊडिंग मिलकर कॉन्ट्रैक्ट बनते हैं और गोलू को हराकर उसे ठीक कर देते हैं। प्रिंसेस अपने पापा को लेकर परेशान होती है| प्लेंटीमोन कहता है चिंता की कोई बात नहीं है - वह मेजेस्टी को ठीक कर देंगे। तभी उन्हें खबर मिलती है कि साउथ की तरफ से एक तूफ़ान आया है और प्रिंसेस को लगता है की ये जोम्बी की हरकत है। इतने में वे दोनों मेजेस्टी को गोलू के हवाले सौंप कर चले जाते है। 

Click=>>>>>Hindi Cartoon for more.......

Thursday, 13 July 2017

पंचतंत्र की कहानी - चालाक खरगोश और शेर



एक घने जंगल में एक खूंखार शेर रहता था| वह प्रतिदिन जंगल के जानवरो को अपना शिकार बनाता था| जंगल का हर जानवर उस शेर से डरता था| जंगल में जानवरों का आजादी से रहना मुश्किल हो गया था|

उन्हें हमेशा यही डर रहता था, कि पता नहीं कब शेर आ जाए और उन्हें खा जाए| शेर की ऐसी मनमर्जी से जानवरों के बीच डर कि एक बड़ी समस्या खड़ी हो गई थी| एक दिन इस समस्या को सुलझाने के लिए जंगल के सभी जानवरों ने एक बैठक बुलाई |

बंदर : यदि ये शेर इसी तरह से सभी जानवरो को खाता रहा तो वो दिन दूर नहीं जब हममे से कोई भी जिंदा नहीं बचेगा|

तभी !! भालू बोलता है कि इस दुष्ट ने मेरी पत्नी को खा लिया|

अंत में एक लोमड़ी कहती है, मेरे मित्रो मैं कल उस शेर के पास जाऊंगी और उससे से इस विषय में बात करूंगी, शायद इस समस्या का कोई हल निकल जाये | अगले दिन लोमड़ी शेर के पास जाती है और उससे कहती है, महाराज आप इस जंगल के राजा हैं और हम सब आपकी प्रजा हैं यदि आप हम सबको इस तरह मार डालेंगे तो आप किस पर राज करेंगे?

शेर : तो क्या मैं भूखा मर जाऊ ?

लोमड़ी : हम आपसे वादा करते हैं कि प्रतिदिन हम में से एक जानवर आपके भोजन के लिए यहां आ जायेगा , और जिस दिन भी कोई जानवर नहीं आये तो आप हमें मार डालना|

उस दिन से प्रतिदिन एक जानवर शेर के पास उसके भोजन के लिए जाने लगा| इस तरह से शेर को भी आराम हो गया| एक दिन एक खरगोश की बारी आई | खरगोश शेर का शिकार नहीं बनना चाहता था| इसलिये उसने एक तरकीब लगाईं|

उसने शेर से कहा कि लोमड़ी जी ने तो आपके पास पूरे पांच खरगोश भेजे थे, लेकिन एक दुसरे शेर ने उनका रास्ते में ही शिकार कर लिया| मैं बड़ी ही मुश्किल से अपनी जान बचाकर आया हूँ| खरगोश की बात को सुनकर शेर को बड़ा गुस्सा आया और बोला किसने मेरे भोजन पर हाथ डाला ? किसकी हिम्मत हुई ,जिसने मेरा शिकार छीना मुझे तुरंत उस शेर के पास ले चलो आज मैं उसे मार डालूँगा |

खरगोश ,शेर  को एक कुँए पर ले गया| महाराज वो शेर कुँए के अन्दर छिपा है| शेर को कुँए में अपनी परछाई नजर आती है और वो उसे दूसरा शेर समझकर ,उससे लड़ने के लिए उस कुए में कूद गया और कुछ ही देर में कुँए में तड़प-तड़प कर मर गया| जब खरगोश ने शेर के मरने कि खबर जंगल के जानवरों को दी तो सभी जानवर ख़ुशी से झूम उठे और  एक साथ रहने लगे

Click=>>>>>Hindi Cartoon for more Panchatantra Stories....... 

Saturday, 8 July 2017

प्लेंटीमोन और किट्टीपाई का रहस्य

चींटिया प्लेंटीमोन के कमरे में होता है और प्लेंटीमोन चींटिया को हेडफ़ोन लगाकर सुला देता है। दूसरी तरफ लोला भी प्रिंसेस के साथ सो रही होती है कि तभी अचानक एक अजीब सी आवाज से उसकी आँख खुल जाती है। अगली सुबह जब प्लेंटीमोन और प्रिंसेस उठते हैं तो वो देखते हैं कि उनके चेहरे पर किसी ने मेकअप किया है। घर भी चारो तरफ से बिखरा हुआ होता है। दोनों को किचन की तरफ से आवाज आती हैं और वो दोनों वहां जाते हैं।



वो दोनों देखते हैं कि लोला दीवारों पर ड्राइंग कर रही है। प्रिंसेस उसे रोकती है लेकिन वो प्रिंसेस का कहना भी नहीं मानती और फिर से ड्राइंग करने लगती है। फिर प्रिंसेस उस पर गुस्सा करती है और कहती है कि अगर उसने प्रिंसेस का कहना नहीं माना तो उसके लिए ठीक नहीं होगा। प्लेंटीमोन उसे शांत कराता है और कहता है की उन्हें लोला की बात को ध्यान से सुनना चाहिए। प्लेंटीमोन और प्रिंसेस लोला को जैसे ही पकड़ते हैं उतने में लोला रोना शुरू कर देती है। प्रिंसेस के मना करने पर भी लोला रोना बंद नहीं करती। प्रिंसेस कहती है की ये कोई आम बात नहीं है।

प्रिंसेस और प्लेंटीमोन लोला और चींटिया के साथ स्कूल चले जाते हैं। दूसरी तरफ डिंगडिंग और डिंगडोंग दोनों प्रिंसेस को पकड़ने के लिए उनका पीछा करते हैं, लेकिन बबलू और बबली भी उसी रहस्मयी आवाज के कब्जे में आ जाते हैं और वो दोनों डिंगडिंग और डिंगडोंग पर हमला करते हैं। वहां पर लोला प्लेंटीमोन,चींटिया और प्रिंसेस पर हमला करती है। प्रिंसेस गुस्सा हो जाती है और लोला पर हमला करने वाली होती है। फिर प्लेंटीमोन उसे रोकता है और कहता है की लोला का बर्ताब कुछ अलग सा लग है। तभी प्लेंटीमोन चींटिया की मदद से पता करता है कि लोला किसी आवाज से परेशान है।

प्रिंसेस प्लेंटीमोन की मदद से लोला के कान में ईयरप्लग डालती है जिससे आवाज़ बंद हो जाती है। प्रिंसेस कहती है की लोला के साथ जिसने भी ये हरकत की हैं, उसका हश्र बुरा होगा और दोनों अनुमान लगाते हैं कि कहीं इन सब के पीछे किट्टीपाई तो नहीं? चारो वहां जाते हैं जहां किट्टीपाई होती है और वो उसे देखकर कहते हैं कि वो अपनी हरकते बंद कर दे। जैसे ही किट्टीपाई रुक जाती है, बबलू और बबली भी नार्मल हो जाते हैं।

लेकिन किट्टीपाई प्रिंसेस के मना करने पर भी नहीं रूकती और उन सब पर  हमला करती है। किट्टीपाई के हमले से प्रिंसेस और प्लेंटीमोन परेशान हो जाते हैं।  वह जितने भी हमले करते हैं, वह हर बार उनके हमले से बच जाती है। तभी प्रिंसेस प्लेंटीमोन को बताती है कि किट्टीपाई हमेशा इसीलिए बच जाती है क्योंकि वो उनका दिमाग पढ़ती है। डिंगडिंग और डिंगडोंग भी प्रिंसेस का पीछा करते हुए आते हैं और प्रिंसेस को किडनैप करने का प्लान बनाते हैं।

किट्टीपाई अपने मैजिक बॉक्स में प्लेंटीमोन और चींटिया को बंद कर देती है। वह प्रिंसेस पर हमला करने वाली होती है की डिंगडोंग धुंए का बम फेंकता है।  डिंगडिंग उसे मना करता है कि ऐसा करने से कुछ नजर नहीं आएगा। चांडाल चौकड़ी किट्टीपाई को प्रिंसेस समझकर उस पर हमला करती है जिससे किट्टीपाई उन्हें भी मैजिक बॉक्स में बंद कर देती है।

प्लेंटीमोन प्रिंसेस को बचाने के लिए किट्टीपाई के मैजिक बॉक्स को खत्म करके उस पर हमला करता है जिससे किट्टीपाई वूड स्पिरिट से आज़ाद हो जाती है।  अपनी आज़ादी के लिए किट्टीपाई प्लेंटीमोन और प्रिंसेस को धन्यवाद देती है। प्लेंटीमोन और प्रिंसेस किट्टीपाई से उसका राज पूछते हैं। जैसे ही वह बताने वाली होती है, तभी वहां पर वूड स्पिरिट आकर किट्टीपाई को किडनैप करके चली जाती है। किट्टीपाई का वुड स्पिरिट के वश में आने का राज़ दफ़न हो जाता है।  चांडाल चौकडी उसी मैजिक बॉक्स में कैद रहते हैं।

समाप्त !!

Click=>>>>>Hindi Cartoon for more....... 
  

       

Tuesday, 4 July 2017

प्लेंटीमोन - डबल ट्रबल



प्लेंटीमोन और प्रिंसेस अपने-अपने साथियों के साथ मैन-मैन के महल के पास आते हैं। वहीँ मैन-मैन कहता है की जिसे भी आना है आ जाए। उनके स्वागत कि वहां पूरी तैयारी है। प्रिंसेस ब्रूस से पूछती है की क्या वह जानता है की मैन-मैन कहाँ से आया है?

ब्रूस कहता है उसे सिर्फ इतना पता है की वो टिम्बकटू शहर के महल का रक्षक है। प्लेंटीमोन कहता है की उसका मकसद जो भी हो, उन्हें उसे रोकना पड़ेगा। तभी उन पांचो को कुछ अजीब सी रोशनी आसमान में जाती हुई नजर आती है। प्लेंटीमोन ब्रूस से पूछता है की इसका मतलब क्या है? ब्रूस कहता है यह स्पेस टाइम गेप है जो पूरी तरह से खुल गया है। स्पेस टाइम को क्रेक करने के बाद पासवर्ड यूज़ करके टिम्बकटू शहर में आ-जा सकते हैं। अगर तुम सचमुच में स्पेस टाइम गेप को सील करना चाहते हो तो मैन-मैन को हराना बहुत जरूरी है। वरना सारे इंसान मुश्किल में पड़ जाएँगे।

प्लेंटीमोन कहता है की तब तो उन्हें जल्दी पहुंचना चाहिए। ब्रूस सब को चेतावनी देता है की मैन-मैन इसी महल में छुपा हुआ है। टिम्बकटू शहर का रक्षक होने के नाते अपनी एनर्जी बढ़ाने के लिए वो इस महल का इस्तेमाल करेगा। अचानक चींटिया को मैन-मैन नजर आता है और वो उसके पीछे भागता है। प्लेंटीमोन चींटिया को अकेले ना जाने के लिए रोकता है पर चींटिया बात को अनसुना कर चला जाता है। तभी चींटिया के पीछे एक बड़ा सा पत्थर आता है जिससे चारो डरकर भागते हैं। 

ब्रूस और चींटिया में लड़ाई हो जाती है और प्रिंसेस उन पर गुस्सा होती है। तभी प्लेंटीमोन, प्रिंसेस अपने-अपने साथियों के साथ एक तहखाने में गिर जाते हैं। मैन-मैन हँसते हुए आता है और कहता है लो हो गया गेम शुरू। महल कि खिड़की से लोला और प्लेंटीमोन बाहर आते हैं। ब्रूस, चींटिया और प्रिंसेस अलग-अलग होते हैं। लोला प्रिंसेस को ना पाकर रोने लगती है और प्लेंटीमोन उसे दिलासा देता है। तभी अचानक से उनके सामने एक जलता हुआ पहिया आता है और प्लेंटीमोन को चोट लग जाती है।

 एक जलती हुई तलवार से टकराकर लोला गिर जाती है। प्लेंटीमोन और लोला को प्रिंसेस नजर आती है जो असलियत में मैन-मैन होता है। वहीँ दूसरी तरफ असली प्रिंसेस ब्रूस और चींटिया के साथ होती है। प्लेंटीमोन नकली प्रिंसेस से पूछता है की ब्रूस और चींटिया तो तुम्हारे साथ थे, अब वे कहा पर हैं? नकली प्रिंसेस कहती है की वे दोनों उसके साथ ही थे लेकिन वह एक परछाई का पीछा करते हुए वहां आ गई। प्लेंटीमोन जाते-जाते वहां एक निशान बना जाता है।

वहीं चींटिया, ब्रूस और प्रिंसेस आपस में झगड़ते हैं। उनके सामने तीन दरवाज़े होते हैं। प्रिंसेस कहती है की यहाँ तीन दरवाजे हैं। यह सोचना पड़ेगा की कौन सा दरवाजा खोलना है? चींटिया प्रिंसेस और ब्रूस के मना करने पर भी एक दरवाजा खोलता है और उसे चोट लगती है। ब्रूस कहता है जो दरवाजा दाहिने तरफ में है वही सही है। चींटिया कहता है उसे कैसे पता और वह बागड़ बिल्ले की बात क्यों माने? चींटिया लेफ्ट दरवाजा खोलता है और धुंए से काला हो जाता है। प्रिंसेस और ब्रूस राईट दरवाजे से आगे बढ़ते हैं। चींटिया भी उनके पीछे चला जाता है।

प्रिंसेस एक निशान देखती है और ब्रूस कहता है की ये प्लेंटीमोन ने बनाया होगा। उसका पीछा करते हुए तीनो प्लेंटीमोन और लोला से मिलते हैं मगर प्रिंसेस एक और प्रिंसेस को अपने सामने देखकर चौंक जाती है। प्लेंटीमोन के साथ बाकी सब भी चौंक जाते हैं। दोनों प्रिंसेस में लड़ाई होती है और असली प्रिंसेस कहती है तुम मैन-मैन हो। तभी लोला कहती है की अब हम इनमे से असली प्रिंसेस को कैसे पहचानेंगे? चींटिया कहता है की अगर तुम असली प्रिंसेस हो तो तुम्हारे हाथ का खाना काफी टेस्टी होगा। मैन-मैन यानी नकली प्रिंसेस कहती है की हां मेरे हाथ का खाना पूरे यूनिवर्स में बेस्ट है।

तभी चींटिया कहता है की वह असली प्रिंसेस नहीं है क्योकि प्रिंसेस के हाथ का खाना कोई भी नहीं खा सकता। ये सुनकर असली प्रिंसेस चींटिया पर हमला करती है। चींटिया मार खाने के बाद कहता है की यही असली प्रिंसेस है। मैन-मैन मन में सोचता है इसने तो मुझे पहचान लिया है। ब्रूस कहानी में एक नया टविस्ट लाता है और कहता है की जो असली प्रिंसेस है, उसे पता होगा कि उनके पिताजी महाराज ने एक गिफ्ट शिप भिजवाया था।

मैन-मैन फिर से उनके जाल में फंस जाता है और कहता है वह शिप उसके पास है। सभी सच से वाकिफ हो जाते हैं और असली प्रिंसेस के पास चले जाते हैं। तभी मैन-मैन कहता है ये क्या बदतमीजी है? ब्रूस उसका जवाब देते हुए कहता है की प्रिंसेस को उनके पिताजी ने कोई गिफ्ट नहीं दिया था। फिर मैन-मैन और प्लेंटीमोन में लड़ाई छिड जाती है। प्लेंटीमोन और प्रिंसेस दोनों मैन-मैन पर हमला करते हैं और बाहर जाने का रास्ता ढूढ़ते हैं। मैन-मैन प्लेंटीमोन के पीछे हमला करने वाला होता है की तभी प्रिंसेस उसे होशियार कर देती है। मैन-मैन प्रिंसेस से आकर कहता है वह अपनी फ़िक्र करे।

ब्रूस प्रिंसेस को उसकी शक्ति याद दिलाता है। प्रिंसेस लोला को पॉवर देती है कि वो मैन-मैन को हटा दे। प्रिंसेस प्लेंटीमोन से पूछती है की क्या प्लेंटीमोन लड़ पायेगा? इस बात पर ब्रूस कहता है की जब तक वह महल के अन्दर हैं, वे तब तक मैन-मैन से जीत नहीं पायेंगे।

समाप्त!!

     Click=>>>>>Hindi Cartoon for more.......